BJP प्रशिक्षण शिविर : योग से शुरुआत और राजनीति के क, ख, ग पर दूसरे दिन की क्लास खत्म

योग शिविर में एक दलाल से प्रशिक्षण बिजेन्द्र नेहरा ने सुबह साढ़े छह बजे से लेकर साढ़े सात बजे तक यानि एक घंटा तक योग क्रियाएं करवाई। इसके बाद प्रदेशाध्यक्ष ओपी. धनखड़ की साढ़े नौ बजे क्लास शुरू हो गई।

प्रशक्षिण शिविर में सम्बोधित करते प्रदेशाध्यक्ष ओपी धनखड़ व साथ हैं शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर।

हरिभूमि न्यूज : फरीदाबाद

स्वस्थ शरीर में स्वस्थ मस्तष्कि का विकास होता है और स्वस्थ मस्तष्कि में स्वस्थ सोच पनपती है जिससे समाज व देश का विकास करना संभव हो पाता है। इसी सोच के तहत भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश स्तरीय प्रशक्षिण शिविर के दूसरे दिन की शुरूआत आज भाजपा कार्यकर्ताओं को स्वस्थ रखने के उद्देश्य से योग शिविर से हुई और राजनीति का क, ख, ग, सिखाने पर गहन मंथन किया गया। प्रदेश स्तरीय प्रशक्षिण शिविर के दूसरे दिन आज भोर में ही शिविर में शिरकत कर रहे हर खासो-आम भाजपा कार्यकर्ता को योग क्रियाएं कराई गई। योग शिविर में बिजेन्द्र एक दलाल से प्रशिक्षण नेहरा ने सुबह साढ़े छह बजे से लेकर साढ़े सात बजे तक यानि एक घंटा तक योग क्रियाएं करवाई। इसके बाद प्रदेशाध्यक्ष ओपी धनखड़ की साढ़े नौ बजे क्लास शुरू हो गई। प्रदेशाध्यक्ष धनखड़ ने एक सफल राजनेता का किस तरह निर्माण किया जाए इस विषय वस्तु पर शिविर में मौजूद कार्यकर्ताओं को बताया। प्रदेश अध्यक्ष ने नेताओं की छवि पर जोर दिया।

तीन दिवसीय एक दलाल से प्रशिक्षण शिविर के दूसरे दिन केंद्रीय मंत्री कृष्णपाल गुर्जर, हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज, स्थानीय निकाय मंत्री डा. कमल गुप्ता, कैबिनेट मंत्री मूलचंद शर्मा, शक्षिा मंत्री कंवरपाल गुर्जर, कृषि मंत्री जय प्रकाश दलाल, सहकारिता मंत्री बनवारी लाल, महिला व बाल विकास मंत्री कमलेश ढांडा, ओपी यादव, राज्यमंत्री संदीप सिंह, सांसद संजय भाटिया, नायब सिंह सैनी, चौ. धर्मबीर सिंह, रतनलाल कटारिया, बिजेंद्र सिंह, सुनीता दुग्गल, एक दलाल से प्रशिक्षण डा. अरविंद शर्मा, रमेश कौशिक, राज्यसभा सांसद कृष्णपाल पंवार, पूर्व मंत्री बीरेंद्र सिंह, लेफ्टिनेंट जनरल डीपी वत्स, पूर्व सांसद डा. सुधा यादव, पूर्व मंत्री विपुल गोयल, प्रदेश महामंत्री वेदपाल एडवोकेट, महामंत्री पवन सैनी, महामंत्री मोहनलाल, संगठन मंत्री रवन्द्रि राजू, भाजपा के पूर्व अध्यक्ष सुभाष बराला, पूर्व मंत्री रामबिलास शर्मा, पूर्व मंत्री कविता जैन, मनीष ग्रोवर, डा. संजय शर्मा, सह मीडिया प्रमुख अरवन्दि सैनी, शमशेर, संजय आहुजा, राजीव जैन, फरीदाबाद के जिला अध्यक्ष गोपाल शर्मा, प्रशक्षिण वर्ग के सह प्रमुख संदीप जोशी, देवेन्द्र चौधरी, विधायक सीमा त्रिखा, नरेंद्र गुप्ता, राजेश नागर, वर्ग सहप्रमुख संदीप जोशी, देवेन्द्र चौधरी, जिला मीडिया प्रभारी विनोद गुप्ता सहित भाजपा के कार्यकर्ता व पदाधिकारी उपस्थित रहे।

सांस्कृतिक राष्ट्रवाद ही अखण्ड भारत का पहला चरण : महेश शर्मा

राष्ट्रीय प्रशिक्षण प्रमुख एवं एकात्म मार्ग दर्शन एवं संभाग अनुसंधान व विकास प्रतष्ठिान के अध्यक्ष महेश चंद शर्मा ने सांस्कृतिक राष्ट्रवाद विषय पर रखे गए सत्र में अपने विचार व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि 1947 का बंटवारा उस समय की बहुत बड़ी विभिषिका थी। इस विभाजन विभिषिका का सबसे प्रमुख कारण मजबूत नेतृत्व का ना होना था। उन्होंने कहा कि सात दशक के बाद पहली बार भारत में एक ऐसा प्रधानमंत्री मिला जिसने इस विभिषिका को समझा और इस बंटवारे को विभिषिका का नाम दिया। अब भारत 14 अगस्त 2022 को इस विभिषिका स्मृति के रूप में मनायेगा। सांस्कृतिक राष्ट्रवाद ही अखण्ड भारत का सार्थक चरण है। इसका पहला चरण अखण्ड भारत और द्वितीय चरण सांस्कृतिक के आधार पर दुनिया के सभी समाजों को जीने का हक मिले।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक ही मकसद, श्रेष्ठ भारत व अखण्ड भारत : कृष्णपाल गुर्जर

केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने कहा कि श्रेष्ठ भारत और अखण्ड भारत ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एकमात्र मकसद है। पीएम मोदी के नेतृत्व में लोगों के जीवन में काफी बदलाव आया है। दुनिया में भारत की छवि को भी बेहतर बनाने में मोदी के कार्यों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इस तीसरे सत्र की अध्यक्षता पूर्व मंत्री मनीष ग्रोवर ने की।

मैं तो केपी यूनर्विसिटी का छात्र : मूलचंद शर्मा

हरियाणा सरकार में परिवहन मंत्री पं.मूलचंद शर्मा ने आज खुले मन एक दलाल से प्रशिक्षण से स्वीकार किया कि वह तो कृष्णपाल गुर्जर यूनर्विसिटी के छात्र है और इस यूनर्विसिटी के प्रो. केपी गुर्जर से उन्हें सीखने को मिला है कि उनकी चक्की बहुत बारीक पीसती है और राजनीति में जिस कुशलता के साथ वह बारीक पीस रहे है उसकी सानी उनके राजनैतिक विरोधी भी मानते है।

पहला पत्थर वो मारे जिसने पाप न किया हो : कृष्णपाल गुर्जर

केन्द्रीय राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने आज धनेश अदलक्खा का बचाव करते हुए विरोधियों पर रह-रहकर प्रहार किए। श्री गुर्जर ने विरोधियों पर प्रहार करते हुए कहा कि भ्रष्टाचार की बातें आज वह लोग कर रहे है जोकि स्वयं देर सवेर भ्रष्टाचार में संलप्ति रहे है। उनका कहना था कि ऐसे लोगों को भ्रष्टाचार की बातें करना शोभा नहीं देता है।

बागवानी विभाग युवाओं को देगा प्रशिक्षण, खजूर और मशरूम की खेती को मिलेगा बढ़ावा

हरियाणा में सरकार ड्रैगन फ्रूट, खजूर और मशरूम की खेती को बढ़ावा देने पर काम करेगी. इस संबंध में कृषि मंत्री जेपी दलाल (Agriculture Minister JP Broker In Haryana) ने एक बैठक का आयोजन किया. इस बैठक में उन्होंने कहा कि राज्य में ड्रैगन फल, खजूर फल व मशरूम को बढ़ावा (Agriculture Minister promote horticulture in Haryana) देने के लिए बागवानी विभाग की ओर से एक विशेष टीम का गठन किया जाएगा, जो युवाओं को ड्रैगन, खजूर और मशरूम की खेती के लिए प्रेरित करने के साथ-साथ प्रशिक्षण दिलाने का काम भी करेगी.बैठक के दौरान उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि इस वर्ष में मशरूम की उपज (Agriculture promote in Haryana) को बढ़ाने के लिए ज्यादा से ज्यादा परियोजनाओं पर काम किया जाए और जिन जिलों में मशरूम नहीं होता है, उसमे कलस्टर विकास के तहत लोगों को प्रशिक्षण देकर मशरूम की खेती को बढ़ावा देने का काम किया जाए. मशरूम की खेती से न केवल लोगों को मशरूम आसानी से उपलब्ध होगा बल्कि युवाओं के लिए रोजगार के अवसर भी सृजित होंगे.कृषि मंत्री जेपी दलाल (Farmers Welfare Minister JP Broker In Haryana) ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि ड्रैगन फल, खजूर फल व मशरूम को बढ़ावा देने के लिए लक्ष्य निर्धारित करें और योजना तैयार करें. बैठक में बताया गया कि एमआईडीएच द्वारा नर्सरी, टीशू कल्चर लैब, फलों के क्षेत्र में विस्तार, सब्जियां, फूल, मसालें, एरोमैटिक पौधे, मशरूम परियोजनाएं, जल स्रोतों, उत्कृष्टता केन्द्र, मधुमक्खी पालन, मानव संसाधन, पोस्ट हारवेस्टिंग प्रबंधन, विपणन ढांचागत, सोलर फेसिंग और मिशन प्रबंधन इत्यादि परियोजनाओं पर वर्ष 2005-06 से 2009-10 तक कुल 16, 437.60 लाख रुपये की राशि खर्च की गई, जबकि वर्ष 2010-11 से 2013-14 के बीच 31500.12 लाख रुपये की राशि व्यय की गई.इसी प्रकार, वर्ष 2014-15 से 2018-19 के बीच 48347.98 लाख रुपये और वर्ष 2019-20 से 2021-22 तक 31714.37 लाख रुपये की राशि को खर्च किया गया. बैठक में बताया गया कि लगभग 21453 हैक्टेयर क्षेत्र को फलों की फसलों के तहत कवर किया गया है, जबकि 37297.82 हैक्टेयर क्षेत्र को सब्जियों की फसलों के अंतर्गत कवर किया गया. बैठक में कृषि मंत्री को अवगत कराया गया कि वर्ष 2013-14 से अब तक एनएचएम के अंतर्गत 1.80 लाख किसानों को लाभ प्रदान किया गया है. वहीं एमआईडीएच ने वर्ष 2005-06 से अब तक लगभग 1516 करोड़ रुपये की राशि किसानों के उत्थान में खर्च की है.

अब एक संपत्ति ब्रोकर बनने का सही समय है

क्या आप अपना खुद का रियल एस्टेट ब्रोकिंग व्यवसाय लॉन्च करना चाहते हैं? यदि हां, तो ऐसा करने का सही समय है। 2016 में राष्ट्रीय आवास बोर्ड द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक, 2020 तक भारत का रियल एस्टेट क्षेत्र 180 अरब डॉलर का हो सकता है। वर्तमान में, यह देश के सकल घरेलू उत्पाद में 7.8 प्रतिशत का योगदान देता है और कई कैरियर के अवसर प्रदान करता है। एक क्षेत्र जिसे अत्यधिक असंगठित कहा जाता है, हाल ही में रियल एस्टेट (विनियामक और विकास) अधिनियम, 2016 के कार्यान्वयन के साथ एक आकृति प्रदान की गई है। इन चालों से उद्योग में सकारात्मक परिवर्तन लाने की संभावना है। इस अधिनियम ने कई प्रावधानों को पेश किया है जिसका उद्देश्य व्यावसायिकता को इस क्षेत्र में लाने और खरीदारों के हितों की रक्षा करना है विशेषज्ञों के मुताबिक, केवल उन डेवलपर्स जो वास्तविक और संगठित हैं, वे बाजार में काम कर पाएंगे। यह अधिनियम अनैतिक और अव्यावहारिक डेवलपर्स को स्वचालित रूप से मिटा देगा। भारत में रियल एस्टेट क्षेत्र में चल रहे विनियामक सुधारों के चलते इस क्षेत्र को घरेलू और विदेशी दोनों निवेशकों से विश्वास मिलेगा। अचल संपत्ति दलालों के लिए क्या है? वर्तमान में, यह क्षेत्र एकत्रीकरण चरण से गुजर रहा है और आप कम मांग से जुड़े समाचारों में आ सकते हैं, इन्वेंट्री तैयार कर सकते हैं, देरी वाली परियोजनाएं, बड़े बिल्डरों को दिवालिया हो रहे हैं आदि। ये सभी सिस्टमिक मुद्दे हैं। इससे पहले, इस क्षेत्र में कानून द्वारा शासित नहीं किया गया था। कोई भी अचल संपत्ति डेवलपर या दलाल बन सकता है लेकिन यह तस्वीर तेजी से बदल एक दलाल से प्रशिक्षण रही है क्षितिज पर रीरा के साथ, रियल एस्टेट सेक्टर में परिवर्तन का एक चरण होगा। यह क्षेत्र पेशेवरों के लिए अभूतपूर्व अवसर प्रदान करेगा जो कुशल और जानकार हैं, और संपत्ति खरीदार भी ऐसे दलालों को पसंद करेंगे। क्या कोई प्रशिक्षण अवसर उपलब्ध हैं? ऐसे दिन हो गए हैं जब कोई भी रियल एस्टेट ब्रोकर बन सकता है। रियल एस्टेट कानून के लिए सभी दलालों को रियल एस्टेट विनियामक प्राधिकरण या रीरा के साथ पंजीकृत होना ज़रूरी है। कानून के तहत नियामक प्राधिकरण दलालों की देखरेख करेगा, जो अचल संपत्ति लेनदेन में अपने सभी कृत्यों के लिए जिम्मेदार होगा। प्राधिकरण शीघ्र कार्य करेगा और किसी एक दलाल से प्रशिक्षण चूक के मामले में दंड प्रावधानों को लागू करने में शर्म नहीं करेगा इसका मतलब है कि इस क्षेत्र में दलालों की संख्या कम हो जाएगी, जो कि विनियमित वातावरण में काम करने में सक्षम नहीं हैं, वे जल्द ही व्यापार से बाहर हो जाएंगे। यह प्रवृत्ति पेशेवर संस्कृतियों में अनुभव वाले पेशेवरों के लिए एक अवसर पेश करेगी। सफल अचल संपत्ति ब्रोकिंग व्यवसाय चलाने के लिए प्रशिक्षण और प्रमाणीकरण आवश्यक उपकरण, ज्ञान और सूचना के साथ उन्हें हाथ में लेगा। राष्ट्रीय रियल एस्टेट विकास परिषद (एनएआरईडीसीओ) और रियल एस्टेट मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट (आरईएमआई) जैसे संगठन पहले ही दलालों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम चला रहे हैं। ये कार्यक्रम आपको व्यवसाय के रूप में ब्रोकिंग के बारे में जानकारी प्रदान करते हैं; वित्तपोषण; योजना, क्षेत्रीय और विकास; कानूनी ढांचे; वास्तु शास्त्र; सुरक्षा मानदंड; और कई अन्य अवधारणाओं और मॉडल इसके अलावा, आप इस व्यवसाय को बहुत ही कम कीमत पर लॉन्च कर सकते हैं, और आपको केवल वज़न और सफल होने की प्रतिबद्धता की आवश्यकता है।

एक दलाल से प्रशिक्षण

उत्तर प्रदेश के बागपत ज़िले की बहू कविता दलाल उर्फ हार्ड केडी दुबई में होने वाली पेशेवर कुश्ती में विदेशी पहलवानों को चुनौती देंगी। दुबई में WWE चैंपियनशिप में उनका सामना 15 से 18 विदेशी महिला पहलवानों से होगा। 'लेडी खली' के नाम से एक दलाल से प्रशिक्षण मशहूर कविता फिलहाल WWE रेसलर खली की जालंधर स्थित एकेडमी में प्रशिक्षण ले रही हैं।

भिवानी से उड़ाने भरने के दौरान हवाई प्रशिक्षण लेने वाले युवाओं से रूबरू हुए मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल

भिवानी की चौ. बंसीलाल हवाई पट्टी पर चल रहा है कि फ्लाइट प्रशिक्षण केेंद्र
भिवानी । भिवानी में अपने दो दिवसीय कार्यक्रम के बाद मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल स्थानीय चौ. बंसीलाल हवाई पट्टी पर हवाई प्रशिक्षण ले रहे युवाओं से रूबरू हुए। मुख्यमंत्री ने प्रशिक्षणार्थियों से परिचय लिया और उनके प्रशिक्षण के बारे में विस्तार से जानकारी ली।
उल्लेखनीय है कि विगत पांच-छह महीने से चौ. बंसीलाल हवाई पट्टी पर फ्लाइट सिमुलेशन ट्रेनिंग सेंटर संचालित है। यहां पर न केवल भारतभर से बल्कि विदेशों से भी बच्चो हवाई उड़ान भरने का प्रशिक्षण ले रहे हैं। यहां हम बतातें चलें कि मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल 25 से 27 फरवरी को कृषि मंत्री जेपी दलाल द्वारा स्थानीय सेक्टर 13 के सामने आयोजित राज्य स्तरीश पशु मेले के समापन अवसर पर 27 फरवरी को बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए थे। रविवार को मुख्यमंत्री का रात्रि ठहराव भिवानी में ही रहा है। सोमवार को मुख्यमंत्री ने अखंड भारत माता मंदिर के आयोजित सात दिवसीय मां बगलामुखी यज्ञ में अपनी पूर्णाहुति डाली। इसके पश्चात मुख्यमंत्री ने भिवानी की हवाई पट्टी से अपनी उड़ान भरी।
उड़ान भरने के दौरान मुख्यमंत्री हवाई पट्टी पर ट्रेनिंग स्कूल में प्रशिक्षण ले रहे बच्चों से मिले और हवाई प्रशिक्षण के बारे मेें विस्तार से जानकारी ली। मुख्यमंत्री ने बच्चों का अपनी शुभकामनाएं देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की।
इस दौरान स्कूल के कैप्टन दिलावर सिंह ने बताया कि इस स्कूल में फिलहाल 17 विद्यार्थियों का दाखिला है। उनकी कक्षाएं दिल्ली में लगती हैं तथा वहीं पर परीक्षा आयोजित की जाती हैं। परीक्षाएं ऑन लाईन भी होती हैं। उन्होंने बताया कि हवाई प्रशिक्षण एक साल में 200 घंटे का दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि भिवानी में प्रशिक्षण के लिए और भी सुविधाएं विकसित की जाएंगी ताकि प्रशिक्षण ले रहे बच्चों के सामने किसी प्रकार की परेशानी न आए। उन्होंने कहा कि कुछ ऐसे देश हैं, एक दलाल से प्रशिक्षण जहां पर फ्लाईंग प्रशिक्षण के लिए मौसम सही नहीं है, इसीलिए दूसरे देशों के बच्चे भी प्रशिक्षण के लिए पंजीकरण करवा रहे हैं।

रेटिंग: 4.26
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 193